Partners in Poetry : Gayatri & Me

What is art? It is nothing but a spool of inspiration thread, moving between one bead of expression to another. When two poets collaborate, one thing is certain. They will create something that essentially impossible to separate. It is this non-separation that has created a coherence in the world of poetry. 

Here Gayatri, an outstanding poetess and writer, translates one of my poems “The Ghosts”. Adding her flamboyance and unique word usage, she crafts a poem that not only resonates with mine but supersedes in effect. 

I present you ..


वोह साये द्वारा Gayatri M

कुछ अधूरी नज़्में ज़हन में घर किये बैठी है …
ठंडे गोश्त सी नाचती है आँखों के आगे  ..
खोखली हैं,
घूरती है अपने अधूरेपन को रीतती  .. 

सुन्न कर देती हैं मुझे ,
पहले डर से ,
फिर शब्दों की टूटी बैसाखियों की मार से,
बीराने मे, घूरती रहती है,
ठंडी, आसमानी, खाली आँखें  ….

चुनी गयी हूँ मैं,
अधजली लकड़ियों में चिंगारी फूंक, पूर्णाहुति के लिए
चाँद सितारों का मखमली आसमां बिछाया मैंने , उनके लिए ,
पहाड़ों का सीना, बहती नदियों का छलकता स्नेह अम्बार ,
और सदियों पुराने कठोर पत्थर जिलाये है, उनके  लिए। 

यायावर सरीखे साये हैं सारे,
मेरी काव्य गगरी में समाते ही नहीं,
सैकड़ो की तादात में जीमते जाते हैं ,
मेरे घर की भट्ठी में गर्माहट पाते नहीं। 

साम दाम दंड भेद, सब जतन किये..
सामने आओ, बात करो मुझ से,
तुम्हारा हाथ पकड़ ले चलती हूँ
गिरजे की चौखट तक,
जहाँ सब कलंक,सब खलिश मिट जाती हैं।   

ठहाका लगाती हैं अधूरी नज़्में,
एक दूसरे को ताकती हैं ..
और बन जाती हैं..
बर्फ के बड़े-बड़े, रौबदार टुकड़े..

साये चले गये हैं  शायद।
बर्फ से धुंआ उठ रहा है.
मैं अतीत में सर घुसाए बैठी हूँ,
शब्द जल रहे हैं वहाँ
पर धुंए का नाम-ओ-निशान नहीं। 

राख हो गए है सवाल सभी,
मायूस, उठ रही थी मैं,
कि लबों पर अचानक,
कोयले दहकने लगे अशार के खुद ही।  

श्रापित हूँ..
और यह श्राप ही आशीर्वाद है मेरा।
फफोले बन के उगल देती हूँ कड़वे सच को,
डगमगा जाऊं तो कर देना,
भूल-चूक-माफ़ी। 

सफ़ेद फाहे बना कर आसमां में
नज़्म गुब्बारों की तरह छोड़ दी है मैंने
और मैं सूफियाना मिजाज़दारी में
कल के सायों से माफ़ी मांग रही हूँ..

शीशा शिकस्त हो चुके हैं
साये पुराने सारे अब
ताम्ब्र -काजल भरे सपनो के फ्रेम में क़ैद .. 

और फिर..
मस्त  मलंग हो कर ,
नाचने लगते हैं बन के दरवेश वो मेरे साथ। 


The Ghosts By Anuradha Sharma

There are some stark unresolved poems in me ..
Like ghosts they manifest before me ..
Then stare at me coldly to complete them..

They paralyze me.
First in fear.
Then in utter incompetence to put them in words.
In the stillness, the stare turns cold & blue.

The ghosts have chosen me to be their vessel of deliverance.

I offer them a play-field of moons & star..
And of mountains & thousands drops of river.
And of doomed rocks from eons ago.

But they refuse to flow in these vessels of everyday poetry I have.

The ghosts start to multiply.
My home has no hearth it seems.

I negotiate.
Remove the veil & reveal yourself.
In return I will get the church of white to bless holy ink on their sins.

The poems laugh..
They all look at each other & laugh.
And turn into ice.

Big. Solid. Blocks of ice.

The ghosts have left.
The blocks of ice are burning.
It is my turn to stare as some words appear through clear soot less burning.

The words too are ashes.
I was just going to give up on them ..
when I found them sitting on my lips like burning coal lumps.

Cursed. I am blessed with a curse.
To speak the coldest of all truths with the burns in my mouth.
Sorry if I be irresolute.

I release these poems back into clouds
and whirl just like Sufis do..
asking the ghosts for forgiveness.

The ghosts go back inside the mirror
framed with coppery  kohl dreams..

and then..
they start whirling with me..

8 thoughts on “Partners in Poetry : Gayatri & Me”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s